श्री अर्जुन काक

इंदौर में अपने आरंभिक वर्ष व्यतीत करने के बाद श्री अर्जुन ने हिमाचल प्रदेश में लारेंस विद्यालय सनावर के बोर्डिंग विद्यालय से अपनी शिक्षा हासिल की। आठवीं तक पढ़ार्इ करने के बाद आप ब्रिटेन स्थित मेलवर्न कालेज में पढ़ार्इ करने चले गए। मेलवर्न कालेज में मूल्यवान पाँच वर्ष के दौरान आपने अपने ज्ञान को अत्यधिक समृद्ध बनाया जिसके बारे में आपका मानना है कि इसने उन्हें अपने आप की खोज करने तथा अपने सामर्थ्य को पहचानने में बहुत मदद की जिसके परिणामस्वरूप लंदन सिथत इम्पीरियल कालेज में सीट मिली।

स्नातक उपाधि प्राप्त करने के बाद श्री अर्जुन एक व्यापारी के रूप में वित्तीय क्षेत्र से जुड़ गए तथा इसके बाद आपने लंदन में काम करते हुए अपना समय व्यतीत किया ।

विदेश में एक दशक से अधिक समय व्यतीत करने के पश्चात् 2010 में आपने भारत लौटने का निर्णय लिया। वर्तमान में आप अंग्रेजी पढ़ाते हैं तथा प्रोग्रेसिव एज्युकेशन विद्यालय के पूर्वी प्रांगण में निर्देशक के रूप में विद्यालय के प्रबंधन से जुड़े है।

शिक्षा के कुछ सर्वोत्त्तम स्तरों का खुद अनुभव हासिल करने तथा अंतर्राष्ट्रीय, गतिशील और प्रतिस्पर्धात्मक विश्व की अभिलाषाओं तथा आवश्यकताओं की समझ रखते हुए आपने भारतीय तथा अंतर्राष्ट्रीय जगत की सारी श्रेष्ठतम वस्तुओं का मिश्रण करने का निर्णय लिया। प्रोद्योगिकी, नवीनीकरण, कार्यनीतियों तथा परिणामजनक बुद्धिमत्तापूर्ण आदर्शो तथा अंतर्राष्ट्रीय रूप से आवश्यक दृष्टिकोण के बीच एक सामंजस्य स्थापित करने के उनके प्रयासों को भारत के मूल्यों, अनुशासन, संस्कृति मूल्याें और प्रतिष्ठा से जोड़कर आप एशिया को उभरते हुए देख रहे हैं साथ ही आप प्रोग्रेसिव एज्युकेशन विद्यालय के सभी बच्चों को एक दिन चीनी, मेंडेरियन तथा जापानी जैसी भाषाओं के ज्ञान के माध्यम से बहुत सारे महाद्वीपों के साथ संप्रेषण कर सकने की संभावनाओं को लेकर महत्त्वकांक्षी है।

जीवन में आपका प्रदर्शन, अनुभव तथा मार्गदर्शन सांसारिक तथा गुणवत्ता प्रेरित हैं । 1996 में प्रोग्रेसिव एज्युकेशन की स्थापना से लेकर अब तक किए गए कार्यों की अलग शैली तथा अखण्डता को आपने दृढ़तापूर्वक संरक्षित किया है। आप सदैव मौजूदा प्रणाली को बेहतर बनाने के लिए प्रयासरत् हैं तथा आपने समग्र कौशल, विकास और प्रोग्रेसिव एज्युकेशन के बच्चाें के लिए गतिशील शिक्षा अनुभव के लिए निवेश किया है।

प्रोग्रेसिव एज्युकेशन विद्यालय में आपका स्वागत है

error: Welcome to Progressive Education